सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनते हैं? सॉफ्टवेयर बनाने, उनकी Testing करने और उन्हें मैनेज करने वाले व्यक्ति को सामान्यतः एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में जाना जाता है। इन्हें सरकारी या गैर सरकारी संस्था में कार्य करते हुए अच्छा सैलरी पैकेज दिया जाता है।

टेक्नोलॉजी की फील्ड में लगातार डेवलपमेंट होने के कारण सॉफ्टवेयर इंजीनियर के सामने कैरियर की काफी अच्छी संभावनाएं है। अगर आप जानना चाहते कि सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए एक आवेदक के अंदर मजबूत टेक्निकल कौशल होने चाहिए। बैचलर डिग्री कंप्यूटर साइंस या फिर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करके कई लोग सॉफ्टवेयर इंजीनियर प्राप्त में अपना कैरियर बनाते हैं।

अनुक्रम दिखाएँ

सॉफ्टवेयर इंजीनियर क्या होता है?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर को हम सॉफ्टवेयर डेवलपर के तहत भी जानते हैं, जो अपने क्लाइंट और बिजनेस के लिए रचनात्मक सॉफ्टवेयर्स को बनाता है।

software engineer kaise bane

इसके साथ ही एक Software Engineer पर्सनल बैंकिंग एप्लीकेशन के साथ-साथ कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजमेंट के लिए भी काम करता है। संक्षेप में कहें तो सॉफ्टवेयर इंजीनियर हमारे दैनिक जीवन में इस्तेमाल होने वाले कई उपयोगी एप्लीकेशन का निर्माण करता है।

12th के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने?

अगर आप 10th के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने जानना चाहते है, तो में आपको बता दूँ के यह संभब नहीं है।

साइंस के सब्जेक्ट के साथ कम से कम 60% अंकों के साथ इंडिया के किसी भी सर्टिफाइड स्कूल से जिन विद्यार्थियों ने 12वीं की क्लास को पास किया है, वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए बैचलर डिग्री के प्रोग्राम में एडमिशन के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बन सकते हैं?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर अगर कोई व्यक्ति बनना चाहता है, तो उसे सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए क्या करना पड़ता है, इसकी इंफॉर्मेशन होनी चाहिए। इस लेख के द्वारा हम आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर की तैयारी कैसे करें, इसकी विस्तृत जानकारी प्रदान कर रहे हैं। उसे पहले सॉफ्टवेयर कैसे बनता है के बारे में ज़रूर जाने।

1. अपनी बैचलर डिग्री कंप्लीट करें

आपको विभिन्न प्रकार के कोर्स सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए अलग-अलग यूनिवर्सिटी के द्वारा ऑफर किए जाते हैं,जिनमें से आप अपने बजट और अपने इंटरेस्ट के हिसाब से किसी भी कोर्स को कर सकते हैं।

अधिकतर विद्यार्थी सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (BCA) का कोर्स करते हैं। अगर आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना है, तो आपको सबसे पहले तो सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग से संबंधित किसी भी कंप्यूटर कोर्स को करना होगा।

हमारी राय में आप बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन का कोर्स कर सकते हैं और अगर आपको कोई अन्य कोर्स करना है, तो आप उसे करके भी अपनी बैचलर डिग्री कंप्लीट कर सकते हैं।

2. कंप्यूटर की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखे

सॉफ्टवेयर क्रिएट करने के लिए एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर को कंप्यूटर की कुछ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का यूज करना पड़ता है जैसे कि C लैंग्वेज, सी प्लस प्लस, Java, , पाइथन, सी शार्प इत्यादि। इसीलिए आपको इन सभी कोडिंग languages को सीखना पड़ेगा और इनकी अच्छी जानकारी हासिल करनी पड़ेगी।

आपको बता दें कि, यह लैंग्वेज समझने में काफी कठिन होती है परंतु अगर आपके अंदर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने की ललक है, तो आप इसे हार्ड स्टडी करके सीख सकते हैं। आपकी जितनी अच्छी पकड़ इन लैंग्वेज पर रहेगी,आगे चल कर के आप उतनी ही अच्छी सॉफ्टवेयर क्रिएट कर सकेंगे।

जब आप बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन का कोर्स करते हैं, तो उसके अंदर ही आपको इन सभी कोडिंग लैंग्वेज की इंफॉर्मेशन प्रैक्टिकल तौर पर दी जाती है।

3. अपने प्रोग्रामिंग लॉजिक को बढ़िया बनाएं

एक अच्छा सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए आपकी प्रोग्रामिंग लॉजिक स्ट्रांग होनी चाहिए। अगर आप यह सोच रहे हैं कि, प्रोग्रामिंग लॉजिक को स्ट्रांग कैसे बनाएं,तो आप चिंता ना करें, क्योंकि बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन के कोर्स में प्रोग्रामिंग लॉजिक को बेहतर और मजबूत बनाने के बारे में भी सिखाया जाता है।

4. दैनिक रूप से अभ्यास करें

बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन का कोर्स करने के दरमियान या फिर कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने से संबंधित किसी भी कोर्स को करने के दरमियान आपको कंप्यूटर की लैंग्वेज और कंप्यूटर की कोडिंग के बारे में एडवांस्ड जानकारी दी जाती है, परंतु सिर्फ जानकारी हासिल करना ही काफी नहीं है।

आप जो जानकारी हासिल करते हैं,आपको उस पर प्रैक्टिस भी करनी चाहिए। ऐसा करने से जब तक आपका कोर्स खत्म होगा,तब तक आप कंप्यूटर सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन अथवा सॉफ्टवेयर डेवलपिंग के बारे में अच्छी इनफार्मेशन हासिल कर चुके होंगे, जो फ्यूचर में आपके काफी काम आएगी।

5. इंटर्नशिप के लिए अप्लाई करें

बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन या फिर कंप्यूटर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने से संबंधित किसी भी कोर्स को पूरा करने के बाद सॉफ्टवेयर डेवलपिंग के बारे में अधिक अच्छी जानकारी के लिए आपको इंटर्नशिप भी करनी चाहिए।

अगर कैंडिडेट इंटर्नशिप करता है, तो उसकी कोडिंग स्किल्स और लैंग्वेज में इंप्रूवमेंट होती है, साथ ही उसे यह भी जानकारी हासिल होती है कि विभिन्न प्रकार के सब्जेक्ट के ऊपर आधारित सॉफ्टवेयर कैसे क्रिएट किए जाते हैं।

6. अपनी मास्टर डिग्री हासिल करें

बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन का कोर्स पूरा करने के बाद अथवा सॉफ़्टवेयर डेवलपिंग से संबंधित किसी भी कोर्स को पूरा करने के बाद अगर आप इसी फील्ड में हायर एजुकेशन प्राप्त करना चाहते हैं तो आप मास्टर डिग्री कंप्यूटर सॉफ्टवेयर डेवलपिंग से संबंधित कर सकते हैं।

मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद आपको शुरुवात में ही किसी भी आईटी कंपनी में काफी ऊंचे पद पर पोस्टिंग मिल सकती है जिसके कारण आपकी सैलरी काफी अच्छी हो सकती है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए इंडिया के बेस्ट कॉलेज कौन से है?

  • देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी, इंदौर
  • नेताजी सुभाष इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी,दिल्ली
  • मद्रास क्रिस्चियन कालेज, चेन्नई
  • गुरु गोविन्द सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी ,दिल्ली
  • डी ऑक्सफ़ोर्ड कालेज ऑफ़ साइंस, बैंगलोर

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने में कितना पैसा लगता है?

एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने में आपको लगभग हर साल ₹50000 से लेकर ₹100000 तक की खर्चा हो सकता है। यह रकम अलग अलग कॉलेज के लिए अलग अलग निर्धारित होता है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी कितनी है?

एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर को कितनी सैलरी मिलेगी, यह उसके पद के ऊपर डिपेंड करती है। शुरुवात में उसे ₹12000 से लेकर ₹16000 तक की सैलरी सॉफ्टवेयर इंजीनियर को मंत्री तौर पर मिलती है और एक्सपीरियंस बढ़ने पर इनकी सैलरी इनकी कंपनी के द्वारा बढ़ाई जाती है।

किसी अच्छी कंपनी में काम करने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर की महीने की सैलरी तकरीबन ₹45,000 से लेकर ₹80,000 तक के आसपास हो सकती है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर क्या करता है?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर कंपनी और लोगों की डिमांड के अनुसार उनके लिए सॉफ्टवेयर क्रिएट करने का काम करता है।

क्या सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए इंटर्नशिप करना आवश्यक है?

यह आपके ऊपर डिपेंड करता है कि आप इसे करना चाहते हैं अथवा नहीं।अगर आप इस फील्ड में अधिक एक्सपीरियंस पाना चाहते हैं तो आपको इंटर्नशिप करनी चाहिए।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर का करियर स्कोप क्या है?

बढ़ती हुई टेक्नोलॉजी के कारण इंडिया और विदेशों में भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर का अच्छा कैरियर स्कोप माना जा सकता है।

आशा करता हूँ के आपको यह लेख सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने पसंद आया होगा। अगर आपको इससे कुछ सिखने को मिला तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें। सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनते हैं को ले कर अगर आपके मन में कुछ डाउट है तो निचे कमेंट के माध्यम से हमें बतेयें।

Previous articleसॉफ्टवेयर कैसे बनता है?
Next articleसॉफ्टवेयर डेवलपर कैसे बने?
में एक कंप्यूटर टीचर हूँ और कंप्यूटर साइंस में मास्टर डिग्री किया हुआ है. मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित चीजें बहुत ही दिलचस्प लगता है. इसी कंप्यूटर एडिशन ब्लॉग के जरिये में कंप्यूटर कोर्स को सरल तरीको से समझाने की कोसिस करती हूँ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here