आज के युग में सॉफ्टवेयर हमारे लिए बहुत उपयोगी है लगभग हर क्षेत्र में सॉफ्टवेयर का उपयोग हो रहा है विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास के साथ साथ बहुत से नए-नए प्रकार के सॉफ्टवेयरों का विकास भी हुआ है. इसी लिए सॉफ्टवेयर की आवश्यकता और उपयोगिता जानना बहुत जरुरी हो जाता है.

आज के दौर में इंटरनेट पर लाखों-करोड़ों सॉफ्टवेयर मौजूद हैं, ऐसे बहुत से सॉफ्टवेयर हमारे लिए भी अत्यधिक उपयोगी हैं और यह हमारे जीवन को आसान बनाते हैं. इसलिए इस लेख में सोफ्टवेयर की उपयोगिता को आसान शब्दों में समझेंगे!

सॉफ्टवेयर की आवश्यकता

जब सॉफ्टवेयर निर्माता किसी सॉफ्टवेयर को बनाते हैं तो वह इस बात का बहुत ध्यान रखते हैं कि वह सॉफ्टवेयर आम लोगों के लिए उपयोगी हो अन्यथा निर्माताओं द्वारा सॉफ्टवेयर बनाने में किया गया निवेश व्यर्थ हो जाएगा.

software ki avashyakta

अलग-अलग सॉफ्टवेयर की आवश्यकता सॉफ्टवेयरयूजर के ऊपर निर्भर करती है उदाहरण के लिए अगर कोई व्यक्ति ऑफिस का काम करता है या बिल बनाने आदि का काम करता है तो उसके लिए उपयोगी सॉफ्टवेयर ms-excel, ms power point,आदि होंगे.

वही अगर कोई व्यक्ति फोटो स्टूडियो में काम करता है, तो उसके लिए उपयोगी सॉफ्टवेयरएडोबफोटोशॉप, एडोबलाइट्रूम, एडोबप्रीमियर प्रो, आदि होंगे.

सॉफ्टवेयर की उपयोगिता

सॉफ्टवेयर का लगभग हर क्षेत्र में उपयोग हो रहा है हर क्षेत्र में अलग-अलग सॉफ्टवेयर का अलग-अलग उद्देश्य के लिए उपयोग हो रहा है.

आज विश्व भर में सभी कार्यों का डिजिटलाइजेशन किया जा रहा है इसी के चलते हर सेक्टर में कंप्यूटरों और अन्य इलेक्ट्रॉनिकडिवाइस का प्रयोग बहुत बढ़ चुका है. इसी कारण सॉफ्टवेयरडेवलपर्स द्वारा प्रत्येक सेक्टर को ध्यान में रखते हुए बहुत से सॉफ्टवेयर निर्मित किए हैं.

सॉफ्टवेयर का उपयोग Education, हेल्थ फाइनेंस, बिजनेस सेक्टर और भी अन्य क्षेत्रों में किया जा रहा है। आइए कुछ समान्य उदाहरणों की चर्चा करते हैं.

1. एजुकेशन सेक्टर में सॉफ्टवेयर का उपयोग

शिक्षा के क्षेत्र में सॉफ्टवेयर का प्रयोग बच्चों को ज्यादा प्रभावी ढंग से शिक्षा देने के लिए किया जा रहा है बहुत से ऐसे सॉफ्टवेयर मौजूद हैं जिनके द्वारा छात्र-छात्राएं कठिन कांसेप्ट को भी आसानी से सीख सकते हैं.

2. स्वास्थ्य के क्षेत्र में सॉफ्टवेयर का उपयोग

हेल्थ सेक्टर में भी बहुत पहले से सॉफ्टवेयर का प्रयोग होता है. हेल्थ सेक्टर में मरीजों, का डाटा रखने के लिए तथा उनके शरीर में हुए बदलावों को मापने के लिए अनेकोसॉफ्टवेयर मौजूद हैं जिनका प्रयोग कर डॉक्टर्स मरीजों का बेहतर इलाज कर पाते है.

3. फाइनेंस सेक्टर में सॉफ्टवेयर का उपयोग

आज इंटरनेट पर बहुत से ऐसे सॉफ्टवेयर मौजूद है जिनको फाइनेंस सेक्टर में आप आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं आप इन सॉफ्टवेयर द्वारा सीधे अपने बैंक से संबंध बना सकते हैं और घर बैठे लेनदेन कर सकते हैं.

सॉफ्टवेयर के प्रकारों के अनुसार इसकी आवश्यकता?

वैसे तो सॉफ्टवेयर के अनेकों प्रकार हैं लेकिन इन सभी में से सॉफ्टवेयर के चार मुख्य प्रकार हैं.

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर

सिस्टमसॉफ्टवेयरप्रोग्राम्स का एक संग्रह होता है जो कंप्यूटर को चलाने में सहायक होता है इसके बिना कंप्यूटर चलाना असंभव है. यह कंप्यूटर के हार्डवेयर से सीधा जुड़ा होता है.

सिस्टमसॉफ्टवेयरइनपुट, आउटपुट और डेटास्टोरेज जैसे बुनियादी कार्यों की देखभाल करके, एप्लिकेशनडेवलपर्स को उन विशिष्ट कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति देता है, जिन्हें उनके सॉफ़्टवेयर को पूरा करने की आवश्यकता होती है.

ऑपरेटिंगसिस्टम, डिवाइस ड्राइवर, प्रोग्रामिंगटूल और अन्य सभी उपयोगितायेंसिस्टमसॉफ्टवेयर के ही उदाहरण है जो कंप्यूटर को कार्य करने की अनुमति देते हैं.

ऑपरेटिंग सिस्टम

ऑपरेटिंगसिस्टमसॉफ्टवेयर वे सॉफ्टवेयर होते हैं जो किसी भी कंप्यूटर को ऑपरेट करने के काम आते हैं उनके बिना कंप्यूटर ऑपरेट नहीं हो सकता और कंप्यूटर में कोई भी कार्य नहीं किया जा सकता.

इनके अंदर एप्लीकेशनसॉफ्टवेयर को इंस्टॉल कर उनका उपयोग किया जाता है ऑपरेटिंगसिस्टमसॉफ्टवेयर के कुछ प्रमुख उदाहरण है Windows, Linux, mac os, ubantu आदि.

डिवाइस ड्राइवर सपोर्ट

कंप्यूटर सिस्टम द्वारा उपयोग किए जाने वाले विभिन्न डिवाइस जैसे कि माउस, कीबोर्ड, डिस्प्ले मॉनिटर, हार्डड्राइव और प्रिंटर इन सभी को कंप्यूटर सिस्टम द्वारा प्रयोग में लाए जाने के लिए कुछ सॉफ्टवेयर्स का इंस्टॉल होना आवश्यक होता है सॉफ्टवेयर को डिवाइस ड्राइवर सपोर्ट कहते हैं.

उनके बिना किसी भी डिवाइस को सपोर्ट करना मुश्किल होता है, अगर आप अपने कंप्यूटर में पेन ड्राइव लगाना चाहते हैं तो इसके लिए आपके कंप्यूटर सिस्टम में पेन ड्राइव चलाने हेतु Driver होना अनिवार्य है हालांकि आजकल ज्यादातर ऑपरेटिंगसिस्टम में जरूरी डिवाइस ड्राइवर पहले से ही इंस्टॉल होते हैं.

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर

एप्लीकेशनसॉफ्टवेयर वे सॉफ्टवेयर होते हैं जिनके द्वारा हम किसी विशेष कार्य को कर सकते हैं. एप्लीकेशनसॉफ्टवेयरऑपरेटिंगसिस्टम में इंस्टॉल किए जाते हैं एप्लीकेशनसॉफ्टवेयर के कुछ प्रमुख उदाहरण Ms-excel, फोटोशॉप, पेंट आदि है.

3. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर

यूटिलिटीसॉफ्टवेयर का प्रयोग कंप्यूटर रिसोर्सेज के प्रबंधन और नियंत्रण के लिए किया जाता हैं. ऑपरेटिंगसिस्टम में इसके लिए कुछ टूल्स उपलब्ध होते हैं.

यूटिलिटीसॉफ्टवेयर की मदद से आप अपने कंप्यूटर की सिक्योरिटी को बढ़ा सकते हैं और अपने कंप्यूटर को कुछ हद तक कंप्यूटर वायरस से बचा सकते हैं, यूटिलिटीसॉफ्टवेयर के कुछ प्रमुख उदाहरण एंटीवायरस, सॉफ्टवेयरबैकअपसॉफ्टवेयर और डिस्कटूल है.

एंटीवायरससॉफ्टवेयर वे सॉफ्टवेयर होते हैं जो आपके कंप्यूटर को वायरस से बचाते हैं और बैकअपसॉफ्टवेयर वे सॉफ्टवेयर होते हैं जो आपके डाटा को सुरक्षित रखते हैं तथा जरूरत के समय आप इनके द्वारा अपने डेटा के नष्ट होने पर फिर से प्राप्त कर सकते हैं.

4. प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर

प्रोग्रामिंगसॉफ्टवेयर भी सॉफ्टवेयर का एक महत्वपूर्ण प्रकार है आजकल बहुत से लोगों द्वारा प्रोग्रामिंगसॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है प्रोग्रामिंगसॉफ्टवेयर वह सॉफ्टवेयर होते हैं जिनमें आप प्रोग्रामिंग करके नए नएसॉफ्टवेयरडेवलप कर सकते हैं.

इंटरनेट पर बहुत सी प्रोग्रामिंगसॉफ्टवेयर मौजूद हैं अलग-अलग ऑपरेटिंगसिस्टम के सॉफ्टवेयर बनाने के लिए अलग-अलग प्रकार के प्रोग्रामिंगसॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर सकते हैं.

प्रोग्रामिंगसॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण Dev-C++, Java Runtime Environment 8-build-281, Android SDK31.0.0 आदि हैं.

निष्कर्ष

तो साथयों इस लेख को यहां तक पढ़ने के पश्चात आपको software की उपयोगिता? को समझने में आसानी हुई होगी यदि आपके लिए यह जानकारी Helpfulसाबित हुई है तो इसे शेयर करना न भूलें.

Previous articleकंप्यूटर के आउटपुट डिवाइस कौन कौन से हैं?
Next articleलैपटॉप कैसे सीखें?
में एक कंप्यूटर टीचर हूँ और कंप्यूटर साइंस में मास्टर डिग्री किया हुआ है. मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित चीजें बहुत ही दिलचस्प लगता है. इसी कंप्यूटर एडिशन ब्लॉग के जरिये में कंप्यूटर कोर्स को सरल तरीको से समझाने की कोसिस करती हूँ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here