aakar ke aadhar par computer ke prakar

कई लोगों को लगता है कि टेबल में समाने वालेे कंप्यूटर को ही कंप्यूटर कहते है. लेकिन असल में कुछ कंप्यूटर का आकार इतना छोटा होता है कि वे एक बैग में फिट हो सकते हैं. वहीं कुछ ऐसे भी कंप्यूटर हैं, जिन्हे स्टोर करने के लिए एक कमरे की आवश्यकता पड़ती है.

अगर आप भी जानना चाहते हैं Sizes के आधार पर कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं, तो आज हम इस लेख में आपको आकार के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार की जानकारी डिटेल में इस लेख में देने वाले हैं.

इसमें कोई शक नहीं कि कंप्यूटर मानव की सबसे अद्भुत एवं शक्तिशाली खोज में से एक है. जिसका इस्तेमाल आज हम अपने दैनिक कार्यों मे करते हैं तो अगर आप भी एक कंप्यूटर यूजर है तो आपको इन सभी प्रकारों की जानकारी होनी चाहिए.

आकार के आधार पर कंप्यूटर के वर्गीकरण

पहले ही हमने आपको साधारण कंप्यूटर के प्रकार के बारे में जानकारी दे दी है. यहाँ आपको आकार के हिसाब से इसकी वर्गीकरण मिलेगा.

1. सुपर कंप्यूटर

कंप्यूटर की श्रेणी में सबसे शक्तिशाली कंप्यूटर को सुपर कंप्यूटर कहा जाता है. बड़े बड़े Complex tasks को सेकेंड्स में करने वाले इस fasters कंप्यूटर का दाम जहां काफी अधिक होता है वही इसका आकार काफी बड़ा होता है. जो एक कमरे तक का स्थान घेरता है.

विश्व का पहला सुपर कंप्यूटर वर्ष 1976 में बनाया गया था.

सुपर कंप्यूटर के उपयोग

कंप्यूटर का उपयोग बड़े बड़े कार्यों को करने हेतु किया जाता है जैसे Automobile,aircraft ,तथा spacecraft designing में मिलिट्री द्वारा रिसर्च करने तथा genetic engineering का अध्ययन करने हेतु किया जाता है .

देश दुनिया के मौसम का पूर्वानुमान करने या फिर मौसम परिवर्तन की जानकारी प्राप्त करने में!

विश्व के अन्य विकसित देशों के समान ही भारत में भी सुपर कंप्यूटर का उपयोग होता है. बता दे C-DAC (Center for Development of Advanced Computer) द्वारा भारत में परम नामक सुपर कंप्यूटर को विकसित किया. इसके अलावा अनुराग कंप्यूटर नामक एक भारतीय सुपर कंप्यूटर भी है.

अतः Size के आधार पर सुपर कंप्यूटर सबसे बड़ा कंप्यूटर कहा जाता है.

2. मेनफ़्रेम कंप्यूटर

आकार के हिसाब से दूसरा सबसे बड़ा कंप्यूटर है मेनफ्रेम कंप्यूटर| जिसका आकर लगभग 1,000 square feet होता है यह कंप्यूटर बड़ी मात्रा में डाटा को high speed में process करने में सक्षम होता है. इसलिए बड़े बड़े बिजनेस, संस्थाओं में 100 से भी अधिक कर्मचारी एक मेनफ्रेम कंप्यूटर पर काम करते हैं.

मेनफ़्रेम कंप्यूटर के उपयोग

आज mainframe computer का इस्तेमाल बैंक,बिजनेस, इंटरप्राइज द्वारा किया जाता है. इस कंप्यूटर का उपयोग मुख्यतः निम्न क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है.

  • क्रेडिट कार्ड प्रोसेसिंग में
  • बैंक अकाउंट मैनेजमेंट में
  • औद्योगिक डिजाइन में

3. मिनी कंप्यूटर

इन कंप्यूटर्स का आकार ना तो ज्यादा बड़ा होता है और ना ही अत्यधिक छोटा इसलिए इसे middle range कंप्यूटर भी कहा जाता है. इन कंप्यूटर की कीमत माइक्रोकंप्यूटर्स की तुलना में अधिक होती है, इनका उपयोग कई सारे यूजर अलग-अलग कार्यों के लिए कर सकते हैं.

ऐसे कंप्यूटर्स का इस्तेमाल स्कूल&विश्वविद्यालयों तथा छोटे बिजनेस में किया जाता है, जहां पर यह computers complex data को आसानी से प्रोसेस कर पाते हैं.आज भी मिनीकंप्यूटर्स का इस्तेमाल साइंटिफिक रिसर्च, engineering analysis इत्यादि के लिए होता है.

मिनी कंप्यूटर्स का इस्तेमाल आमतौर पर multimedia, जैसे 3D ग्राफिक्स, गेम्स खेलने इत्यादि के लिए सर्वाधिक किया जाता है. इनके low साइज के कारण इन्हें कहीं भी ले जाया जा सकता है मार्केट में कई सारी कंपनी मिनी कंप्यूटर को मैन्युफैक्चर करती है.

4. माइक्रो कंप्यूटर

21वी सदी में सर्वाधिक इस्तेमाल में लाए जाने वाले कंप्यूटर्स का नाम है Micro Computers इन कंप्यूटर के सर्वाधिक उपयोग के वजह से इन्हें PC या Personal कंप्यूटर भी कहा जाता है.

एक वीडियो गेम से लेकर tablet, laptop, PC Tablet, mobile pocket computer इत्यादि यह सभी devices जिन्हें Carry करके एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जाता है यह सभी माइक्रो कंप्यूटर कहे जाते हैं.

संक्षेप में कहें तो बहुत सारे डिजिटल कंप्यूटर जिनमें CPU या कोई integrated semiconductor chip लगा होता है उसे माइक्रो कंप्यूटर कहा जाता है.

माइक्रोकंप्यूटर्स की एक विशेषता है, इसमें कई सारे यूजर्स अनेक टास्क को पूरा कर सकते हैं. लेकिन लिमिटेड फंक्शनालिटी और slower processing की वजह से इनका उपयोग अधिकतर दैनिक कार्यों में होता है.

मिनी कंप्यूटर और माइक्रो कंप्यूटर में अंतर

तो यह थी साइज के अनुसार सभी computers के नाम, लेकिन यहां अब आपके मन में यह प्रश्न उठ सकता है कि आखिर एक मिनी कंप्यूटर और माइक्रो कंप्यूटर में क्या फर्क है? तो आइए जानते हैं.

माइक्रो कंप्यूटर और मिनी कंप्यूटर दोनों की अपनी-अपनी विशेषताएं हैं. एक मिनी कंप्यूटर साइज में बड़ा होता है, क्योंकि इसके CPU का भार 90 पाउंड तक का हो सकता है.

मिनी कंप्यूटर मेनफ्रेम कंप्यूटर की तुलना में Less Complex होते हैं. जो अलग-अलग उपयोगकर्ताओं को मल्टीपल टर्मिनल उपलब्ध कराते हैं.

दूसरी तरफ बात कि जाए microcomputers की तो जैसा की इसके नाम से ही पता चलता है यह ऐसे कंप्यूटर हैं, जो बड़े कंप्यूटर्स का ही काम करने योग्य हैं बस इनका साइज कम कर दिया गया है.

कंप्यूटर की शुरुआत में जहां कंप्यूटर पूरे कमरे का स्थान गिरता था. वहीं अब इसका स्थान एक छोटी सी सिलीकान चिप ने ले लिया है. जिस वजह से इसे अब किसी बैग में भी फिट किया जा सकता है.

बात की जाए micro computer के उपयोग की तो इसका उपयोग word processing, managing databases or spreadsheets, graphics& office applications. के लिए होता है. वहीं दूसरी तरफ Mini कंप्यूटर को process control करने तथा financial& administrative tasks को परफॉर्म करने के लिए बनाया गया था.

निष्कर्ष

तो साथियों आज के इस लेख में आपने आकार के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल की. हमें आशा है इस लेख को पढ़ने के बाद अब आपको पता चल गया होगा कि साइज के मुताबिक कौन-कौन से कंप्यूटर्स अब तक बनाए गए हैं? और इनका क्या काम है.

अगर आपको इस लेख में दी गई जानकारी पसंद आए तो इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ना भूलें!!

Previous articleकंप्यूटर का परिचय देते हुए उसके सभी अंगों को समझते है
Next articleलैपटॉप कैसे बनाते हैं – पूरी जानकारी हिंदी में
में एक कंप्यूटर टीचर हूँ और कंप्यूटर साइंस में मास्टर डिग्री किया हुआ है. मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित चीजें बहुत ही दिलचस्प लगता है. इसी कंप्यूटर एडिशन ब्लॉग के जरिये में कंप्यूटर कोर्स को सरल तरीको से समझाने की कोसिस करती हूँ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here